नमस्कार 🙏 हमारे न्यूज पोर्टल - मे आपका स्वागत हैं ,यहाँ आपको हमेशा ताजा खबरों से रूबरू कराया जाएगा , खबर ओर विज्ञापन के लिए संपर्क करे +91 9817784493 ,हमारे यूट्यूब चैनल को सबस्क्राइब करें, साथ मे हमारे फेसबुक को लाइक जरूर करें , बुढ़ापा पेंशन देर से सही मगर हरियाणा सरकार बढ़ा कर दे रही -अच्छी खबर – -राज मनोहरलाल का मगर मौज अब बुजुर्गों की होगी – – समाज जागरण 24 टीवी

बुढ़ापा पेंशन देर से सही मगर हरियाणा सरकार बढ़ा कर दे रही -अच्छी खबर – -राज मनोहरलाल का मगर मौज अब बुजुर्गों की होगी –

😊 कृपया इस न्यूज को शेयर करें😊
  •            -समाज जागरण24tv
    – सीपीएच प्रमुख कृष्ण राज अरुण –
    चंडीगढ़ / पंचकूला – बुढ़ापा पेंशन मई के महीने में कई खातों में पढ़ने की तैयारी हरियाणा सरकार कर चुकी है। परिवार पहचान पत्र की तज्दीक होने के बाद वास्तविक जरूरतमंद लोगों के बैंक खाते में पढ़ने की जानकारी आई है। उन लोगों की बल्ले बल्ले भी होगी जिन्होंने आँखे बिछाये इन्तजार किया है। खबर यह भी बेहतर है की परिवार पहचान पात्र की तहकीकात के बाद अब कहा जा रहा हैकि राज मनोहर का है मौज बुजुर्गों की होगी -घर बैठे पेंशन और अन्य सुविधाएँ खाते में ही मिलेंगी।
    हरियाणा में वृद्धावस्था पेंशन को लेकर बड़ी और खबर है –
  1. सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग CM घोषणा के तहत बढ़ी हुई पेंशन 15 मई के बाद खातों में डालेगा। वित्त विभाग की मंजूरी के बाद विभाग ने प्रक्रिया भी तेज कर दी है। पेंशन को लेकर सबसे खास बात यह है कि इस बार सूबे के 17.85 लाख बुजुर्गों के खातों में 2500 रुपए नहीं 2750 रुपए आएंगे। प्रदेश में कुल सामाजिक पेंशन दायरे में आने वाले की 31 लाख लाभार्थियों की संख्या है।मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने फरवरी 2023 में बजट पेश करने के दौरान वृद्धावस्था सम्मान पेंशन, विधवा पेंशन और दिव्यांग पेंशन सहित सामाजिक सुरक्षा दायरे की योजनाओं में 250 रुपए की बढ़ोतरी की घोषणा की थी। सूबे में इस योजना को 1 अप्रैल से लागू किया गया है। इस बार सभी बुजुर्गों सहित अन्य को बढ़ी हुई पेंशन राशि दी जाएगी।

Whatsapp बटन दबा कर इस न्यूज को शेयर जरूर करें 

Advertising Space


स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे.

Donate Now

लाइव कैलेंडर

June 2024
M T W T F S S
 12
3456789
10111213141516
17181920212223
24252627282930